About


जीवन परिचय

इनका बचपन हरियाणा के सुरम्य गाॅंव देवसर धाम में बीता जो राजस्थान सीाम के निकट पड़ता है। इनके पिता श्री उस इलाके के जाने माने ठाकुर थे। श्री मंगेस सिंह सरपंच के घर में 1 मई 1954 को इनका जन्म हुआ। इनका बचपन प्रकृति की सुरम्य गोद में बीता। गाॅंव के उत्तर दिशा में देवसर की पहाड़ी उस पर मां भवानी का मंदिर तो पूरब में जुई नहर, दक्षिण में राज्स्थान से सटा अंतहीन बालू के टिले तो पश्चिम में विशालकाय देवसर का तालाब। इनकी शुरुआती शिक्षा से लेकर हाईस्कूल तक की पढ़ाई गाॅंव के ही सरकारी स्कूल में हुई। इग्यारहवीं से स्नातक तक शिक्षा जीवानी शहर में हुई। कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से इन्होंने हिन्दी और सस्कृत विषय से परास्नातक की पढ़ाई की।
   तद्उपरांत 1975 में शारीरिक शिक्षा में डिप्लोमा किया। 1976 में शारीरिक शिक्षा में एमपीएड किया। उसी दौरान हरियाणा और कुरुक्षेत्र में अखिल भारतीय भाला फेक प्रतियोगिता में इन्होंने स्वर्ण पदक अपने नाम किया। इसके अतिरिक्त तैराकी, योगाशन प्रतियोगिता, साइकिलिंग, पर्वतारोहण और तारगोला समेत तमाम खेलों में तमाम पदक  से इन्होंने अपनी छोली भरी। वाटरपोलो खेलने के दौरान उनकी अच्छे खिलाडि़यों में गिनती होती थी। 1978 में विश्वविद्यालय के एथलीट टीम के कप्तान भी रहे।

साहित्यिक परिचय
 

पहली कविता कक्षा दसवी में पढ़ाई के दौरान प्रकाशित हुई। इसके उपरांत काॅलेज के मैग्जीन में विभिन्न प्रकार के लेख और कविताएं छपती रहीं। कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में ‘राही’ कविता को पुरस्कार भी प्राप्त हुआ। निबन्ध लेखन में छायावास पर विश्वविद्यालय में प्रथम स्थान मिला। इसके बाद से इनकी साहित्यकि सफर जो शुरू हुई तो निरंतर नई बुलदिंयों को छूती चली गई। हरियाणा साहित्य अकादमी, चंडीगढ़ की पत्र, पत्रिकाओं में निरंतर ही छपती चली आ रही है। आकाशवाणी रोहतक, आकाशवाणी दिल्ली से बालगीत समेत विभिन्न प्रकार की वार्ताओं में भाग लेते रहे। बांसुरी वादन, कविता पाठ, काव्य गोष्ठियों समेत कवि सम्मेलनों में दिल्ली, चंडीगढ़, आगरा, भिवानी समेत देश के तमाम हिस्सो की यात्राएं करते रहते हैं। और इन यात्राओं के दौदान इनको इनके कामों के लिए इनकों बहुत सी सभाओं में सम्मानित भी किया गया। ‘उर्मिलायण’ पुस्तक के प्रकाशन के बाद इनको माॅरिसस में सम्मानित करने के लिए आमंत्रण आया है। इनके लिखे उन्यास और कहानी का शिघ्र प्रकाशन होने वाला है। वीनस कम्पनी ने इनके गीतों सीडी भी तैयार की है। इनकी पहली सीडी ‘क्या बात लिखंू’ के बाद अब दूसरी सीडी ‘फिर चाॅंद उतर आया’ के लिए वीनस कम्पनी से जल्द ही अनुबंध होने वाला है।



Category Advertisement

Fans(3)

  Preeti
  Sanjay
  Bharat